October 28, 2009

44. सुन्दरता के क्या मायने?

प्रकृति से सुन्दर कुछ है?
ईश्वर से सुन्दर कुछ है?
आत्मा से सुन्दर कुछ है?
व्यवहार से भी सुन्दर कुछ है?
तन की सुन्दरता क्षणभंगुर है
माटी की काया
एक दिन माटी में मिल जायेगी
फिर कहो
तन की सुन्दरता क्या
तब भी बनी रह पाएगी?
फिर इस सुन्दरता के क्या मायने?

5 comments:

Harkirat Haqeer said...

Bahut khoob....!!

Fir bhi log tan ki hi sundarta ke piche pagal hain .....sacchai ko samajhne ke liye bahut tap karna padta hai ....!!

रवि धवन said...

बहुत सुन्दर

Devina said...

Satyam Shivam Sunderum.

sensitive niv said...

कोई मायने नहीं हैं... फिर भी लोग उसे ही पसंद करते हैं जो तन से खुबसूरत होता है... लोगों का भी दोष नहीं कहा जा सकता... मानसिकता ही ऐसी बन गई है...

आमीन said...

खूबसूरती मन की होती है