October 27, 2009

43. वाह! विधाता

एक प्रेम अनुमानित
दूजा प्रेम सघन मौन!
दो ह्रदय मिलन को प्यासे
लेकिन पहल करे कौन??
वाह! विधाता
अजब यह खेल रचा
एक आकृति मस्तक पर खींच
हाथ से दी रेखा मिटा !!

3 comments:

रवि धवन said...

वाह! बहुत खूब...

Devina said...

Hearts love is only a feel.and if it ends in pain.this means god loves u.as pain comes only for our growth.sorry my comments are not poeitical.

sensitive niv said...

बेहतरीन! बहुत बढ़िया