February 28, 2010

कौन रंग रंगूं

कौन रंग रंगूं तोहे श्याम,
पूछें मोरी सखियां,
तोहे लाल ना लगाऊं
पीला ना हरा
अपने ही रंग
तोहे रंग डारूं
कन्हैया मोरे इस फागुन में... 


3 comments:

रवि धवन said...

जय जय!

Devina said...

Good one.HE in YOU and YOU in HE.GOOD GOING.

संजय भास्कर said...

... बेहद प्रभावशाली अभिव्यक्ति है ।