December 31, 2007

12. बस एक क्रांति

एक
एक क्रांति ...
अपराधमुक्त, भयमुक्त
स्वच्छ समाज के नाम।
एक क्रांति ...
बेटियों के नाम
दहेज़ लोलुप
दुष्टों के नाम।
एक क्रांति ...
समग्र विकास के नाम।
एक क्रांति...
भ्रष्टाचारमुक्त
राष्ट्र के नाम।
एक...
बस एक क्रांति
मेरे प्रान्त
बिहार के नाम।

2 comments:

मृत्युंजय कुमार said...

अरे भाई नागार्जुन जी, बिहार के लिए क्रांति कौन करेगा? वहीं के लोग न? फिर इंतजार किसका है शुरु कर दीजिए। हम आपके साथ हैं। कविताएं बेहद अच्छी हैं। इस ब्लाग में थोड़ा रंग रोगन भी डालिए।

VIDYUT MAURYA said...

पानीपत में रहकर बिहार के लिए क्रांति कैसे होगी....वहीं की जमीन पर चलिए न...वैसे कोई आपका साथ नहीं देने वाला है....सबको रोटी की पड़ी है....मृत्युजंय भी साथ नहीं देंगे....
विद्युत